इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Monday, July 2, 2012

मेरी कविताएं या तुम?????

भास्कर भूमि में प्रकाशित http://bhaskarbhumi.com/epaper/index.php?d=2012-07-06&id=8&city=Rajnandgaon

सोचती हूँ...

किसकी ज्यादा दीवानी हूँ मैं??
कौन अधिक प्रिय है मुझे????

मेरी कवितायें या तुम ???

शायद तुम!!!

तुमसे बेपनाह मोहब्बत जो है मुझे...

या नहीं!!!
मेरी कवितायें...

जिनमें तुम हो....

तुम.........जिससे बेपनाह मोहब्बत है मुझे...

मेरी कवितायें  मेरी जिंदगी हैं....

ये मुझे छलती तो हैं , 
मगर  कहती हैं कि
तुम्हें भी मोहब्बत है मुझसे...


-अनु 



52 comments:

  1. मेरी कविताएं तुम सुन्‍दर रचना है अल्‍प शब्‍दो में दिल की भावना स्‍पष्‍ट रूप से व्‍यक्‍त की है आपके ब्‍लाग को ज्‍वाईन कर लिया है आप भी करे तो खुशी होगी

    यूनिक तकनीकी ब्‍लाग

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब अनु जी ||

    छलिया को पहचान के, होते क्यूँ मजबूर ?
    शंका की गुंजाइशें, है भैया भरपूर |
    है भैया भरपूर, लगे रचना निज प्यारी |
    किन्तु हकीकत क्रूर, विरह में रचती सारी |
    ले सुकून की सांस, ढूँढ़ते गोकुल गलियां |
    मिल जाता वो काश, वही तो असली छलिया ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रविकर् जी

      Delete
  3. वाह ... बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  4. poem will only say what your heart says-take care!

    ReplyDelete
  5. ज़िन्दगी, कविता और 'तुम': सब आपस में एक दूसरे के पर्याय ही प्रतीत होते हैं...!
    सुन्दर:)

    ReplyDelete
  6. वाह: अनु बहुत खूब ..कविता जीवन और तुम तीनों ही एक दूसरे के पूरक हैं..एक दूसरे के विना सब अधूरे हैं..

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल के चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आकर चर्चामंच की शोभा बढायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया राजेश जी , आभार

      Delete
  8. Anu,
    I want your consent for inclusion in a research like post by a fine fellow blogger and friend on 'Evolution of Hindi poetry bloggers etc..'
    I need to mail you the details if you please provide me your ID. Kindly contact me ASAP. Regards...amit

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति,,,बहुत खूब अनु जी ,,,

    MY RECENT POST...:चाय....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने



    मेरी कवितायें मेरी जिंदगी हैं....
    ये मुझे छलती तो हैं ,
    मगर कहती हैं कि
    तुम्हें भी मोहब्बत है मुझसे...

    ReplyDelete
  11. वाह अनु जी बहुत खूब

    ReplyDelete
  12. सच्ची हैं आपकी कवितायें..

    ReplyDelete
  13. मेरी कवितायें मेरी जिंदगी हैं....
    ये मुझे छलती तो हैं ,
    मगर कहती हैं कि
    तुम्हें भी मोहब्बत है मुझसे...

    तुम कविता और मैं .... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  14. क्या बात है अनु जी..... प्रेम की कशमकश का सुन्दर इज़हार!

    ReplyDelete
  15. प्यारा सा छल...बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  16. समबाहु त्रिकोण है जी .तो समकोण भी तो होगा , तो आप, आपकी कविता और वो , हम तो तीनो को एक दुसरे के पूरक की तरह देख रहे है

    ReplyDelete
  17. ये भ्रम क्यों? प्रीत का स्थाई भाव किसके प्रति? समर्पण किसके प्रति?...... प्रिय के प्रति या कविता के?
    कविता कभी छल नहीं कर सकती। परन्तु प्रिय ........
    इस सुन्दर रचना के लिए आभार !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता नहीं छलती मगर रचनाकार छल कर सकता है आत्मसंतुष्टि के लिए....खुद को भुलावा देने के लिए....
      कविता अपनी है सो समर्पण भी उसके प्रति ही होगा....

      Delete
  18. अच्छी रचना है मोहब्बत .है एक मानसी सृष्टि .

    ReplyDelete
  19. अच्छी रचना है मोहब्बत .है एक मानसी सृष्टि .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    रविवार, 1 जुलाई 2012
    कैसे होय भीति में प्रसव गोसाईं ?

    डरा सो मरा
    http://veerubhai1947.blogspot.de/

    ReplyDelete
  20. ऐसी कविताएं आप रचती रहें जिसमें वह “तुम” हो और यह “मुहब्बत”!

    ReplyDelete
  21. prem ki sundar kashmakash....sach bahut khub...

    ReplyDelete
  22. मेरी कवितायें मेरी जिंदगी हैं....
    ये मुझे छलती तो हैं ,
    मगर कहती हैं कि
    तुम्हें भी मोहब्बत है मुझसे...

    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति .... !!

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर भाव ....मन हिलोर लेता रहता है ....प्रेम और छल के बीच और ढूंढ लाता है अनमोल मोती ...!!यही खोज बनी रहे ....!!
    शुभकामनायें अनु जी .

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर ...हमारी कवितायेँ वह सब कहती हैं....जो हम सुनना चाहते हैं...वह सब दिखाती हैं, जो देखना चाहते हैं........और मोहब्बत ....वहींसे तो उद्गम होता है उसका

    ReplyDelete
  25. वाह बहुत खूबसूरत एहसास हैं। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  26. Bohot sundar aur saral shabdo me keh diya... really touching :)

    ReplyDelete
  27. तुम न होते तो किस सत्य के मै गीत गाती.......

    इसलिए पूरक है एकदूसरे के सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  28. बहुत कोमल अहसास..बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  29. wow...must say ...beautiful poetry!!!

    ReplyDelete
  30. कविताओं में प्रेम है उसके लिए , इसलिए कवितायेँ उससे भी ज्यादा प्रिय होनी ही हैं !

    ReplyDelete
  31. तुम हो तभी कवितायेँ हैं तुम्हारी.....

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर अनु जी ! बहुत खूबसूरती के साथ भ्रम की सृष्टि की है ! भ्रम की यह स्थति मन को कहीं न कहीं बड़ा सुकून बड़ी आत्मसंतुष्टि दे जाती है ! बहुत ही प्यारी रचना ! बधाई स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  33. kavitayein chhalti nahi saty kahati hain...bahut sundar anu ji....

    ReplyDelete
  34. मेरे विचार से कविताओं में ही 'तुम' का एहसास भी छुपा होता है

    ReplyDelete
  35. यह तो वही बात है कि सारी बीच नारी है कि नारी बीच सारी।

    ReplyDelete
  36. ......बहुत खूबसूरत एहसास ...बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  37. dil se nikli hui baat hi dil tak pahunchati hai. bahut sundar bhav. aap sachmuch apne dil mein rahti hain.

    ReplyDelete
  38. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    उम्दा प्रस्तुति के लिए आभार


    प्रवरसेन की नगरी
    प्रवरपुर की कथा



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ पहली फ़ूहार और रुकी हुई जिंदगी" ♥


    ♥शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    ***********************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  39. क्योंकि इन कविताओं कों आप खुद ही तो बुनती हैं ... जो चाहो कहलवा लो ...
    लाजवाब कविता है ..

    ReplyDelete
  40. चंद पंक्तिया और बेहतरीन अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  41. तुम हो तो सब है...!
    बहुत खूब...!

    ReplyDelete
  42. adrniy anu g nmskr ,aapke dil ki kavyatmak prastuti hain apki sari kavitayen jo kaisa hai meri ek ghazal ki in panktiyon sa bahut kuchh hai .........washington london dimaag se /dil se nai dilli lagti hai........

    ReplyDelete
  43. मुझमें तू है , तुझमें मैं हूँ ,
    भेद रहा न कोय |
    कुछ इसी तरह की .

    सादर

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...