इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Sunday, October 12, 2014

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............

बदल रहा है मौसम
सर्द हवा की छुअन !
ठीक उस लड़की के नर्म स्पर्श की तरह
जिसने अभी अभी सीखा है प्रेम करना.....

यूँ आते हैं त्योहारों वाले दिन !
और यूँ आती हैं खुशियाँ............................................


दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में "रचनाकर्म " में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा सीनियर रिपोर्टर 
Smita जी द्वारा.........
http://epaper.jagran.com/ePaperArticle/28-sep-2014-edition-National-page_9-9525-73308072-262.html
http://epaper.jagran.com/epaper/28-sep-2014-262-delhi-edition-national.html



12 comments:

  1. बढे चलो ...... फिर इश्क तुम्हें हो जाएगा ... :) बधाई अनु .

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बधाई अनु जी ...
    आपकी रचनाएं दिल को कसमसाने के काबिल हैं ...

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया
    हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत बधाई.......आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    ReplyDelete
  8. मैंने पुस्तक मंगा कर पढ़ी है
    हर एक रचना सुन्दर और बेहतरीन
    बार बार पढ़ने को मन करता है
    बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  9. सभी को इश्क़ करने पर मजबूर कर रही है यह कृति।। बधाई ।।।

    ReplyDelete
  10. अरे वाह ............... बधाई का पूरा गुलदस्‍ता आपके नाम :)))))))))))
    आैर शुभकामनाओं का बागीचा

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...